Pierre Bittar French Impressionist Artist  
 

 

अगस्त 6, 2011

पेंटिंग नं.1

2700 वर्ष पूर्व और यीशू से 700 वर्ष पहले, बाइबल के पुराने विधान में परमेश्वर अपने लोगों के सामने पैगंबर इसैय्याह के माध्यम से यीशू के रूप में अपने धरती पर आने की घोषणा करता है.

यीशू की उद्घोषणाएँ

इसैय्याह 7:14

"इस कारण प्रभु खुद तुम को एक चिन्ह देगा;
सुनो, एक कुमारी गर्भवती होगी और पुत्र जनेगी,
और उसका नाम इम्मानूएल रखेगी".

"“इम्मानुएल का मतलब है “परमेश्वर हमारे साथ है।”

The Annunciation of Jesus

ल्यूक 1:26-38
26 छठवें महीने में परमेश्वर की ओर से जिब्राईल स्वर्गदूत गलील के नासरत नगर में एक कुंवारी के पास भेजा गया।
27 जिसकी मंगनी यूसुफ नाम के दाऊद घराने के एक पुरूष से हुई थी। उस कुंवारी का नाम मरियम था।
28 और स्वर्ग दूत ने उसके पास भीतर आकर कहा; आनन्द और जय तेरी हो, जिस पर ईश्वर का अनुग्रह हुआ है, प्रभु तेरे साथ है।
29 वह उस वचन से बहुत घबरा गई, और सोचने लगी, कि यह किस प्रकार का अभिवादन है?
30 स्वर्गदूत ने उससे कहा, हे मरियम; भयभीत न हो, क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह तुझ पर हुआ है।
31 तेरा एक पुत्र उत्पन्न होगा; तू उसका नाम यीशु रखना।
32 वह महान होगा; और परम प्रधान का पुत्र कहलाएगा; और प्रभु परमेश्वर उसके पिता दाऊद का सिंहासन उसको देगा।
33 और वह इजराइल के लोगों पर सदा राज्य करेगा; और उसके राज्य का अन्त न होगा।'
34 मरियम ने स्वर्गदूत से कहा," यह कैसे होगा? मैं तो पुरूष को जानती ही नहीं।"
35 स्वर्गदूत ने उसको उत्तर दिया; कि पवित्र आत्मा तुझ पर उतरेगा, और परम प्रधान की सामर्थ तुझ पर छाया करेगी इसलिये वह पवित्र जो उत्पन्न होने वाला है, परमेश्वर का पुत्र कहलाएगा।
36 'और देख, और तेरी कुटुम्बिनी इलीशिबा के भी बुढ़ापे में पुत्र होनेवालाहै, यहउसका, जो बांझ कहलाती थी, का छठवां महीना है।
37 पंरतु परमेशवर सब कर सकता है।'
38 मरियम ने कहा, देख, मैं प्रभु की दासी हँ, सब आपके वचन के अनुसार हो: तब स्वर्गदूत उसके पास से चला गया॥

 

 

 
  

 हमारे प्रभु की जिंदगी

परिचय 1 - उद्घोषणाएँ 2 - यीशु का जन्म 3 - मिस्र को पलायन
4 - डॉक्टरों के साथ मंदिर में 5 - प्रथम 4 शिष्य 6 - काना में विवाह 7 - यीशू द्वारा विधवा के पुत्र को पुनर्जीवन प्रदान करना
8 - 5000 लोगों को खिलाना 9 - अंतिम रात्रिभोजन 10 - यहूदा द्वारा विश्वासघात 11 - यीशु का निरादर
12 - सलीब पर चढ़ाना और मृत्यु 13 - यीशु का पुनर्जीवन 14 - उत्थान वचन को फैलाना

पवित्र त्रिमूर्ति को समझें
पवित्र त्रिमूर्ति
क्या हम भगवान की कोशिका हैं?


वीडियो साक्षात्कार रेडियो साक्षात्कार
 
 
Pierre Bittar की गैलरी
मुख पृष्ठ